You Cant Beat The One Who Never Gives Up Sanjay Rauts First Reaction After Being Taken Into ED Custody


Shiv Sena MP Sanjay Raut Reaction after ED Detain: शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) के घर पर ईडी (ED) ने रविवार को छापेमार कार्रवाई की. ईडी ने रेड करने के बाद शिवसेना नेता (Shiv Sena leader Sanjay Raut) को हिरासत में ले लिया. इससे पहले ईडी (ED) के अधिकारी आज (31 जुलाई) सुबह करीब सात बजे संजय राउत (Sanjay Raut) के घर पहुंचे थे. वहीं, इस कार्रवाई से पहले संजय राउत ने सामना के जरिए शिवसेना (Shiv Sena) के बागी विधायकों पर निशाना साधा. शिवसेना नेता (Shiv Sena leader) ने कहा, बागी विधायकों को ईमानदारी के साथ ये स्वीकार करना चाहिए कि उन्होंने केंद्रीय जांच एजेंसियों से खुद को बचाने के लिए पार्टी नेतृत्व के खिलाफ विद्रोह किया था.

संजय राउत ने पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में प्रकाशित साप्ताहिक लेख ‘रोखठोक’ में कहा, ‘विद्रोही गुट को यह कहना बंद करना चाहिए कि उन्होंने इसलिए पाला बदला क्योंकि शिवसेना ने हिंदुत्व को छोड़ दिया था. हिंदुत्व को बेवजह बदनाम क्यों कर रहे हैं? ईमानदारी दिखाते हुए कहिए कि सभी ईडी से खुद को बचाने के लिए भागे थे’

शिवसेना सांसद का दावा
शिवसेना सांसद ने दावा किया कि पार्टी के नेता अर्जुन खोतकर ने ईमानदारी पूर्वक स्वीकार किया है कि वह दबाव में थे और यही कारण था कि वह बागी गुट में शामिल हुए.
राउत ने कहा, ईडी ने शिवसेना सांसद भावना गवली के करीबी सहयोगी रईस खान को गिरफ्तार किया, लेकिन शिवसेना के खिलाफ गवली के विद्रोह करते ही खान को छोड़ दिया गया और गवली की जब्त संपत्ति पर से रोक हटा ली गई.

‘मैं मर जाऊंगा, लेकिन शवसेना को नहीं छोडूंगा.’
 संजय राउत ने ईडी की कार्रवाई के कुछ ही देर बाद ट्वीट किया, ‘मैं दिवंगत बालासाहेब ठाकरे की सौगंध खाता हूं कि मेरा किसी घोटाले से कोई संबंध नहीं है.’ उन्होंने लिखा, ‘मैं मर जाऊंगा, लेकिन शवसेना को नहीं छोडूंगा.’

क्या हैं पूरा मामला जानिए
बता दें कि अप्रैल में ईडी ने इस जांच के तहत संजय राउत (Sanjay Raut) की पत्नी वर्षा राउत और उनके दो सहयोगियों की 11.15 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति को अस्थायी रूप से कुर्क किया था. कुर्क की गई संपत्तियां संजय राउत (Sanjay Raut) के सहयोगी और गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के पूर्व निदेशक प्रवीण एम राउत के पास पालघर, सफले (पालघर में शहर) और पड़घा (ठाणे जिले में) के पास जमीन के रूप में हैं. ईडी (ED) ने एक बयान में कहा कि कुर्क की गई संपत्तियों में मुंबई के उपनगर दादर में वर्षा राउत का एक फ्लैट और अलीबाग में किहिम बीच पर आठ प्लॉट शामिल हैं, जो संयुक्त रूप से वर्षा राउत और सुजीत पाटकर की पत्नी स्वप्ना पाटकर के पास हैं.

यह भी पढ़ेंः
Maharashtra: ‘ये विद्रोह नहीं बल्कि शिवसेना के स्वाभिमान की लड़ाई है’,  केसरकर ने उद्धव को दी बीजेपी से गठबंधन की सलाह

Maharashtra Crisis: आदित्य ठाकरे की बागी विधायकों को चुनौती, इस्तीफा देकर चुनाव लड़कर दिखाएं



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.