Parliament Monsoon Session 4 Congress MPs Suspended Om Birla Says Do Not Want Placards And Slogans In House | Parliament Monsoon Session: कांग्रेस के 4 सांसद निलंबित, ओम बिरला बोले


Om Birla Action on Congress MPs: संसद के मॉनसून सत्र (Monsoon Session of Parliament) के दौरान सोमवार को सदन के भीतर हंगामा करने पर कांग्रेस (Congress) के चार सांसदों को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Lok Sabha Speaker Om Birla) ने निलंबित कर दिया. निलंबित होने वाले कांग्रेस के सांसदों में मणिकम टैगोर (Manickam Tagore), टीएन प्रतापन (TN Prathapan), जोतिमणि (Jothimani) और राम्या हरिदास (Ramya Haridas) शामिल हैं. ये सांसद हाथ में महंगाई के खिलाफ लिखी तख्तियां लेकर सदन के भीतर प्रदर्शन कर रहे थे. लोकसभा स्पीकर द्वारा चेतावनी दिए जाने पर भी जब हंगामा नहीं रुका तो उन्होंने प्रदर्शनकारी सांसदों को मॉनसून सत्र शेष अवधि के लिए सदन की कार्यवाही से निलंबित कर दिया.

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा, ”संसद नारेबाजी के लिए नहीं, चर्चा और संवाद के लिए है. मैं किसी भी सदस्य पर कार्रवाई नहीं करना चाहता हूं लेकिन सदन में तख्तियां और नारेबाजी भी नहीं देखना चाहता हूं. देश की जनता आपके हाथों में तख्तियां नहीं देखना चाहती है. आप सब माननीय हैं, देश की जनता ने आपको भेजा है, देश की जनता देख रही है, मर्यादा बनाए रखें.”

यह भी पढ़ें- National Herald Case Live: सोनिया से पूछताछ के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, केरल में रोकी गई ट्रेनें, पुलिस हिरासत में राहुल गांधी

निलंबित कांग्रेसी सांसद ने यह कहा

निलंबित होने वाले कांग्रेस के एक सांसद मणिकम टैगोर ने मीडिया से कहा, ”संसद में लोगों की आवाज उठाने पर हमें सदन से निलंबित कर दिया गया है. हम देश के लोगों के लिए लड़ाई जारी रखेंगे. संसद में सैकड़ों चीजों की अनुमति नहीं है, केवल मोदी और शाह के गुणगान की अनुमति है.”

इससे पहले संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने सदन में कांग्रेस सांसदों द्वारा हंगामा किए जाने पर प्रस्ताव रखा कि उन्होंने गरिमा के प्रतिकूल आचरण किया है, इसलिए उन्हें जारी सत्र की शेष अवधि के लिए कार्यवाही से निलंबित कर दिया जाए. इससे पहले पीठासीन सभापति राजेंद्र अग्रवाल ने कहा कि कुछ सांसद लगातार आसन के सामने तख्तियां दिखा रहे हैं जो सदन की मर्यादा के अनुकूल नहीं है.

यह भी पढ़ें- Supreme Court: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा वित्त आयोग से सवाल- ‘क्या कर्ज़ में डूबे राज्यों में मुफ्त की योजनाओं पर अमल रोका जा सकता है?’



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.