NTAGI Recommends Corbevax As Booster Dose For Adults Who Are Fully Vaccinated With Either Covishield Or Covaxin


Corbevax Booster Dose: एनटीएजीआई (NTAGI) ने कोविशील्ड, कोवैक्सीन के टीके वाले 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए बूस्टर के रूप में कॉर्बेवैक्स (Corbevax) की सिफारिश की है. कॉर्बेवैक्स कोविड-19 के लिए भारत का पहला स्वदेशी रूप से विकसित रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन (RBD) प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन (Vaccine) है. सूत्रों के मुताबिक टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (एनटीएजीआई) के कोविड-19 वर्किंग ग्रुप ने ये सिफारिश की है. 

एनटीएजीआई के अनुसार जिन वयस्कों ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के कोविशील्ड या भारत बायोटेक बायोटेक के कोवैक्सीन का टीका लगवाया है उन्हें कॉर्बेवैक्स बूस्टर दिया जा सकता है. यदि सरकार द्वारा इसे स्वीकृत किया जाता है, तो ये पहली बार होगा जब देश में पहले टीकाकरण के लिए उपयोग किए जाने वाले कोविड वैक्सीन की जगह दूसरी बूस्टर खुराक की अनुमति दी जाएगी. 

क्या कहा गया सिफारिश में?

एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (एनटीएजीआई) के कोविड-19 कार्य समूह ने 20 जुलाई को हुई अपनी 48वीं बैठक में ये सिफारिश की है. सिफारिश में कहा गया है, “18 साल से ऊपर की आबादी के लिए कोवैक्सीन या कोविशील्ड टीकों की प्राथमिक श्रृंखला पूरी होने के छह महीने बाद कॉर्बेवैक्स को तीसरी / एहतियाती खुराक के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.” 

अभी बच्चों को दी जा रही है कॉर्बेवैक्स

भारत की पहली स्वदेशी रूप से विकसित आरबीडी प्रोटीन सबयूनिट वैक्सीन कॉर्बेवैक्स का उपयोग वर्तमान में कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के तहत 12 से 14 वर्ष की आयु के बच्चों को टीका लगाने के लिए किया जा रहा है. भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने 4 जून को कॉर्बेवैक्स को 18 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों के लिए एहतियाती खुराक के रूप में मंजूरी दी थी. 

10 जनवरी से दी जा रही है बूस्टर डोज

वर्तमान में, कोविड-19 वैक्सीन जो पहली और दूसरी खुराक के लिए इस्तेमाल की गई है वही 18 साल और उससे अधिक उम्र के सभी लोगों को एहतियात के तौर पर दी जा रही है. 18-59 आयु वर्ग में 4.13 करोड़ से अधिक एहतियात की खुराक दी गई है, जबकि 5.11 करोड़ से अधिक एहतियाती खुराक 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों, स्वास्थ्य कर्मी और फ्रंटलाइन वर्कर्स को दी गई है. भारत ने 10 जनवरी से स्वास्थ्य कर्मी, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 वर्ष व उससे अधिक आयु के लोगों को टीकों की एहतियाती खुराक (Booster Dose) देना शुरू किया था. 

ये भी पढ़ें- 

Monkeypox: भारत में और बढ़ा मंकीपॉक्स का खतरा- एक की मौत, केरल में फिर नया केस, जानें किन राज्यों में कितने मामले?

Covid Cases in India: कोरोना से राहत, पिछले 24 घंटे में 13,734 नए मामले दर्ज, कल की तुलना में 3 हजार केस हुए कम



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.