National Anti Doping Bill After Lok Sabha Now Passed From Rajya Sabha Today Know All About Its Provision Ann


National Anti Doping Bill 2022: सर्वसम्मति से बुधवार को राज्यसभा (Rajya Sabha) में भी एंटी डोपिंग बिल, नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी (National Anti Doping Agency) पास हो गया. अब इस बिल को संवैधानिक ताक़त (Constitutional Power) मिल गई है. भारतीय खेलों में एंटी डोपिंग एक्टिविटीज़ (Anti Doping Activities) को रेगुलेट करने के लिए बनी नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी और नेशनल डोप टेस्ट लैबोरेटरी (National Dope Test Laboratory) को संवैधानिक मान्यता देने के लिए केंद्र सरकार ने द नेशनल एंटी डोपिंग बिल, 2022 को पहले लोकसभा (Lok Sabha) में पेश किया था जहां से मंजूरी मिलने के बाद बुधवार को इसे राज्यसभा में भी लम्बी चर्चा के बाद सर्वसम्मति से पास कर दिया गया है.

संयुक्त राष्ट्र संघ के इंटरनेशनल कन्वेंशन अगेन्स्ट डोपिंग इन स्पोर्ट्स (International Convention Against Doping in Sports)में भारत ने शिरकत की थी. भारत इसका सिग्नेटरी है. इस कन्वेंशन को अर्थ देने के लिए भी भारत सरकार ने ये कदम उठाया है.   

खेल मंत्री ने चर्चा के दौरान ये कहा 

बिल को सदन में चर्चा के लिए पेश करने के दौरान खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने हाल के दिनों में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारतीय खिलाड़ियों की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि उन्हें पूरी उम्मीद है कि भारतीय खिलाड़ी भविष्य में और अधिक पदक जीतेंगे. अनुराग ठाकुर ने कहा कि, इस बिल से न सिर्फ खेल और खिलाड़ियों को मदद मिलेगी, बल्कि इससे आत्मनिर्भर भारत को भी बल मिलेगा. 

उन्होंने सदन को बिल के महत्व के बारे में बताते हुए कहा कि वर्ष 2008 में राष्ट्रीय डोप टेस्ट लेबोरेटरी बनाई गई थी, नियम भी बनाए गए थे, लेकिन उसे वैधानिक दर्जा नहीं मिला था. उन्होंने बताया कि अमेरिका, चीन, जापान और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में डोप जांच को लेकर पहले से ही व्यवस्था है और अब भारत भी इसमें शामिल हो गया है जिससे भारत की साख बढ़ेगी.   

स्टैंडिंग कमेटी को भेजा गया था बिल 

द नेशनल एंटी डोपिंग बिल को पिछले साल दिसम्बर में खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने लोकसभा में पेश किया था, लेकिन इसे पहले संसद की खेलों से सम्बंधित स्टैंडिंग कमेटी को भेजा गया था. कमेटी ने इसमें कई संशोधनों का सुझाव दिया जिनमें से अधिकांश को सरकार ने मान लिया था. बिल पर इस दौरान जनता से राय भी मांगी गई थी. इसके बाद इसे पिछले हफ़्ते लोकसभा में चर्चा के बाद पास कर दिया गया था. अब आज, बुधवार को इसे क़रीब छः घंटे की चर्चा के बाद राज्यसभा से भी पास कर दिया गया. 

सर्वसम्मति से पास हुआ है एंटी डोपिंग बिल

एंटी डोपिंग बिल की चर्चा का जवाब देते हुए खेल मंत्री अनुराग ने सदन में सभी दलों व उनके सांसदों का इस बात के लिए धन्यवाद दिया कि सभी सांसदों एक मत से एंटी डोपिंग बिल का समर्थन किया है. अनुराग ठाकुर ने कहा कि इससे खेल की दुनिया में भारत की साख बढ़ेगी. 

अब डोपिंग टेस्ट रिज़ल्ट की वैधता की भी जांच हो सकेगी

पहले डोपिंग टेस्ट में फ़ेल हो जाने वाले खिलाड़ी के पास ख़ुद को सही साबित करने का मौक़ा न के बराबर होता था. जिस डोपिंग टेस्ट में उसे फेल कर दिया गया, वो टेस्ट वैज्ञानिक ढंग से सही है या ग़लत इसकी जांच करना बेहद मुश्किल था. ऐसे में अपील करने का उचित प्लेटफार्म और सुविधा नहीं होने के कारण निर्दोष खिलाड़ियों का कैरियर ही ख़त्म हो जा सकता था. इस सम्बंध में आम आदमी पार्टी के सांसद भारत के पहलवान नरसिंह यादव का मामला भी सदन में उठा जो भारत में डोपिंग टेस्ट पास करके गए थे लेकिन विदेश में हुए ओलम्पिक के टेस्ट में उन्हें फेल कर दिया गया था. बता दें कि विदेश में भारतीय खिलाड़ियों के ख़िलाफ़ साज़िश की भी सम्भावना बनी रहती थी. नेशनल एंटी डोपिंग बिल के पास हो जाने से ऐसे मामलों में खिलाड़ियों को बड़ी राहत मिलेगी. 

बिल पर चर्चा के दौरान किसने क्या कहा 

बिल पर चर्चा की शुरुआत कांग्रेस सांसद दीपेन्द्र सिंह हुड्डा ने की. दीपेन्द्र ने बिल का समर्थन करते हुए कहा 16 साल से कम के खिलाड़ियों पर पेनल्टी कम लगनी चाहिए क्योंकि कम उम्र के खिलाड़ी प्रभावित ज़्यादा होते हैं. हुड्डा ने कहा कि सरकार को इस बिल में तय करना चाहिए कि किस लेवल पर टेस्टिंग होगी और टेस्टिंग की संख्या भी बढ़ानी चाहिए. 

आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने बिल का समर्थन करते हुए ये भी कहा कि भारत के 130 करोड़ लोगों के लिए खेल का बजट महज़ 3 हज़ार करोड़ रूपए है जो कि ऊंट के मुंह में जीरा जैसा है. इसे और बढ़ाया जाना चाहिए. राज्यसभा में एंटी डोपिंग बिल पर बोलते हुए आप सांसद संजय सिंह ने कहा कि अग्निवीर योजना ला कर हरियाणा यूपी बिहार व अन्य राज्यों में जो युवा सुबह चार बजे से शाम तक मेहनत करते हैं उन्हें तो केंद्र सरकार ने बिना डोपिंग टेस्ट के ही फेल कर दिया. बीएसपी सांसद रामजी ने कहा कि नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी के अधिकारी ऐसे होने चाहिए जिनका कोई न कोई नेशनल या इंटरनेशनल खेलों से सम्बंध रहा हो.

ये भी पढ़ें:

National Herald Case: यंग इंडियन ऑफिस को ED ने किया सील, कांग्रेस मुख्यालय और सोनिया गांधी के आवास के बाहर सुरक्षा बढ़ाई गई

Monsoon Session: सरकार ने वापस लिया पर्सनल डेटा प्रोटेक्शन बिल, लाया जाएगा नया विधेयक



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.