Margaret Alva Vice Presidential Candidate Asks BSNL Start Her Call Service Pralhad Joshi Says Replies | Margaret Alva ने कॉल बंद होने पर BSNL से की शिकायत, केंद्रीय मंत्री बोले


Margaret Alva Phone Call Row: विपक्ष की उपराष्ट्रपति उम्मीदवार (Vice Presidential Candidate) मार्गरेट अल्वा (Margaret Alva) ने अपनी फोन सेवा (Phone Service) बंद होने की शिकायत की है. उन्होंने ट्वीट कर चुटकी लेते हुए बीएसएनएल-एमटीएनएल (BSNL-MTNL) से कहा है कि अगर उनकी कॉल शुरू कर दी जाएगी तो वह किसी को फोन नहीं करेंगी. इस पर संसदीय कार्य, कोयला और खान मंत्री प्रह्लाद जोशी (Prahlad Joshi) ने कहा कि ये बचपने वाले आरोप हैं. 

मार्गरेट अल्वा ने ट्वीट में लिखा, ”डियर बीएसएनल/एमटीएनएल, आज बीजेपी के कुछ मित्रों से बात करने के बाद मेरी फोन की सभी कॉल डायवर्ट हो रही हैं और मैं न कॉल कर पा रही हूं और न ही रिसीव कर पा रही हूं. अगर आप फोन सही कर दें तो मैं वादा करती हूं कि आज रात बीजेपी, टीएमसी और बीजेडी के किसी सांसद को कॉल नहीं करूंगी.” उन्होंने लिखा आपको मेरा केवाईसी जानने की जरूरत है.

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने यह कहा

मार्गरेट अल्वा के ट्वीट पर केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा, ”कोई किसी का फोन टैप क्यों करेगा? उन्हें किसी से भी बात करने दी जाए, उपराष्ट्रपति चुनाव के जो भी परिणाम होंगे, हम उन्हें लेकर आश्वस्त हैं. ये बचपने वाले आरोप हैं. वह वरिष्ठ हैं और उन्हें ऐसे आरोप नहीं लगाने चाहिए. कॉल ब्लॉक क्यों हुई, यह शिकायत बीएसएनएल के वरिष्ठ अधिकारियों से करिए.”

यह भी पढ़ें- National Herald Case Live: ‘हमें गिरफ्तार करके भी कभी चुप नहीं करा पाओगे..’, हिरासत में लिए जाने के बाद राहुल का केन्द्र पर हमला

प्राप्त जानकारी के अनुसार विपक्ष की उपराष्ट्रपति उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा समर्थन जुटाने के लिए रोजाना कई सांसदों को फोन कर रही हैं. उन्होंने बीजेपी शासित कर्नाटक और असम के सीएम से भी फोन पर बात की है. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से भी उन्होंने समर्थन के लिए कहा है. बता दें कि एनडीए ने बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को अपना उम्मीदवार बनाया है. उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान छह अगस्त को होगा. उसी दिन वोटों की गिनती के बाद परिणाम घोषित किए जाएंगे. 

यह भी पढ़ें- Supreme Court: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा वित्त आयोग से सवाल- ‘क्या कर्ज़ में डूबे राज्यों में मुफ्त की योजनाओं पर अमल रोका जा सकता है?’





Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.