India, Japan Conduct Maritime Partnership Exercise In Andaman Sea


Maritime Partnership Exercise: भारत (India) समय-समय पर अपने मित्र देशों के साथ मिलकर कई प्रकार के सैन्य अभ्यास अभियान (Military Exercise Expedition) आयोजित करता रहता है. जिससे की भारतीय सेनाओं (Indian Armed Forces) के युद्ध कौशल में काफी बढ़ोत्तरी होती है. भारतीय नौसेना (Indian Navy) ने शनिवार को अंडमान सागर (Andaman Sea) में जापान मैरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स (Japan Maritime Self Defense Force) के साथ एक मैरीटाइम पार्टनरशिप एक्सरसाइज (Maritime Partnership Exercise) में हिस्सा लिया. इसकी जानकारी रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) ने दी है.

रक्षा मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार भारत और जापान की नौसेना के बीच हुए इस अभ्यास में आईएनएस सुकन्या, एक पेट्रोलिंग जहाज, जेएस समीदारे और एक मुरासेम श्रेणी के डिस्ट्रॉयर ने इसमें हिस्सा लिया. जानकारी के अनुसार इस दौरान नौसेना ने ऑपरेशनल इंटरैक्शन के तौर पर सीमैनशिप गतिविधियों, विमान संचालन और सामरिक युद्धाभ्यास सहित विभिन्न अभ्यास किए.

मजबूत होंगे समुद्री संबंध

बता दें कि दोनों ही देश अपने समुद्री संबंधों को मजबूत रखने के लिए हिंद महासागर क्षेत्र में नियमित अभ्यास करते रहे हैं. इस मैरीटाइम पार्टनरशिप एक्सरसाइज का उद्देश्य इंटरऑपरेबिलिटी को बढ़ाना और सीमैनशिप और संचार प्रक्रियाओं को सुव्यवस्थित करना है. फिलहाल रक्षा मंत्रालय का कहना है कि यह मैरीटाइम पार्टनरशिप एक्सरसाइज का उद्देश्य हिंद महासागर क्षेत्र में सुरक्षित अंतरराष्ट्रीय शिपिंग और व्यापार सुनिश्चित करना है.

जनवरी माह में हुआ था युद्धाभ्यास 

बता दें कि इससे पहले भी इसी साल जनवरी महीने में दोनों देशों की नौसेनाओं (Navy) ने युद्धाभ्यास किया था. यह युद्धाभ्यास 13 जनवरी को बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) में आयोजित किया गया था. जिसमें भारतीय नौसेना (Indian Navy) के जहाजों शिवालिक और कदमत और जापान (Japan) के समुद्री आत्मरक्षा बल के जहाजों उरगा और हीराडो ने हिस्सा लिया था.

इसे भी पढ़ेंः
Punjab Free Electricity: पंजाब सरकार ने निभाया अपना वादा, हर महीने 300 यूनिट फ्री बिजली के लिए सर्कुलर जारी

Maharashtra Politics: महा विकास आघाडी में बड़ी हो रही दरार, अब कांग्रेस के कई नेता शिवसेना में हुए शामिल



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.