5G स्पेक्ट्रम नीलामी में जियो सबसे आगे, जानें 5G स्पेक्ट्रम से जुड़े खास प्वाइंट



<p style="text-align: justify;"><strong>5G Auction:</strong> 5G स्पेक्ट्रम नीलामी के पहले दिन उम्मीद से ज्यादा बोली लगी. रिपोर्ट के अनुसार, करीब 1.45 लाख करोड़ रुपये के 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी की गई है. दूसरे दिन पांचवे राउंड की बोली के दौरान रिलायंस जियो (Reliance Jio) का दबदबा बना रहा है. बता दें कि भारत के दिग्गज कारपोरेट घराने जैसे मुकेश अंबानी, सुनली मित्तल और गौतम अडानी की कंपनियां 5G स्पेक्ट्रम आवंटन में भाग ले रही हैं. इसके साथ ही वोडाफोन-आइडिया पांचवे जनरेशन (5G) की नीलामी में हिस्ला ले रही है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>जियो 80,100 करोड़ रुपये के आसपास की लगा सकता है बोली</strong></p>
<p style="text-align: justify;">सरकार को 5G स्पेक्ट्रम नीलामी से करीब 1.45 लाख करोड़ रुपये का प्रॉफिट हुआ है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुकेश अंबानी की जियो 5G स्पेक्ट्रम आवंटन की नीलामी प्रक्रिया में लीडिंग कंपनी बनकर सबसे आगे रह सकती है. हालांकि अभी तक नीलामी की डिटेल्स का खुलासा नहीं हुआ है, लेकिन ICICI सिक्योरिटीज के अनुसार, एनालिस्ट ने कहा है कि जियो की तरफ से सबसे ज्यादा 80,100 करोड़ रुपये के आसपास की बोली लगाई जा सकती है. इससे जियो को 10MHz स्पेक्ट्रम से लेकर प्रीमियम 700MHz बैंड स्पेक्ट्रम का फायदा मिल सकता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>जानें 5G स्पेक्ट्रम से जुड़े खास प्वाइंट</strong></p>
<ul style="text-align: justify;">
<li>भारती एयरटेल (Bharti Airtel) 45,000 करोड़ रुपये स्पेक्ट्रम आवंटन पर खर्च कर सकती है. इससे एयरटेल 800MHz और 2100MHz बैंड हासिल कर सकेगी.</li>
<li>Vodafone Idea के 5G स्पेक्ट्रम नीलामी में 18,400 करोड़ रुपये खर्च कर सकती है.</li>
<li>अडानी डेटा नेटवर्क (Adani Data Network) &nbsp;26GHz स्पेक्ट्रम को हासिल कर सकती है.</li>
<li>अनुमान है कि अडानी 26GHz स्पेक्ट्रम को 20 सर्किल में पेश कर सकती है. इसमें दिल्ली और कोलकाता जैसे शहर के नाम होंगे. कंपनी 900 करोड़ रुपये में 3350MHz स्पेक्ट्रम खरीद सकती है. अनुमान है कि अडानी 200MHz स्पेक्ट्रम को गुजरात के सभी सर्किल के लिए पेश कर सकती है.</li>
<li>शुरुआती दिन में बोलियां मुख्य रूप से 3.3GHz, 26GHz और 700MHz के 5G स्पेक्ट्रम बैंड के साथ 1800MHz और 2100 MHz स्पेक्ट्रम बैंड के लिए थीं.</li>
<li>बता दें, 900 मेगाहर्ट्ज और 2500 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम बैंड में कुछ चुनिंदा बोली भी लगाई गई थी.</li>
</ul>
<p style="text-align: justify;"><strong><a title="’सरकार ब्लॉकिंग का आदेश देती रही तो हमारा धंधा बंद हो जाएगा’, ट्विटर ने दिया बड़ा बयान" href="abplive.com/technology/twitter-made-big-statement-regarding-blocking-accounts-in-karnataka-high-court-2178254" target="">’सरकार ब्लॉकिंग का आदेश देती रही तो हमारा धंधा बंद हो जाएगा’, ट्विटर ने दिया बड़ा बयान</a></strong></p>



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.