​UPSC I​P​S Success Story ​Priyanka Shukla​ UPSC Rank ​109 Ann


UPSC IPS Success Story: देश में हर साल आईएएस और आईपीएस (IAS & IPS) बनने का सपना लाखों युवा देखते हैं, लेकिन सफलता सिर्फ चुनिंदा कैंडिडेट्स को ही मिलती है. शायद सबके जेहन में ये सवाल आता है कि देश की सबसे कठिन यूपीएससी की परीक्षा (UPSC Exam) को पास करने का सक्सेस मंत्रा क्या है? यूपीएससी 2018 की परीक्षा में 109वीं रैंक लाने वाली प्रियंका शुक्ला (IPS Priyanka Shukla) का कहना है कि खुद पर भरोसा, सकारात्मक सोच,समर्पण और ईमानदार कोशिश ही सफलता का मूल मंत्र है.

प्रियंका शुक्ला फिलहाल जबलपुर में नगर पुलिस अधीक्षक (सीएसपी) के पद पर तैनात हैं. प्रियंका कहती है कि किसी सफल उम्मीदवार की एग्जाम के प्रिपरेशन से लेकर क्वालीफाई करने तक की स्टोरी सुनकर इस एग्जाम को क्रैक करने की प्रेरणा ली जा सकती है. प्रियंका शुक्ला भिंड के छोटे से गांव मेहगांव की रहने वाली हैं. उनकी कक्षा 7वीं तक की शिक्षा गांव के ही सरकारी स्कूल में हुई थी. उन्होंने इसके बाद आगे की पढ़ाई ग्वालियर (Gwalior) से की और इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन में इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद यूपीएससी की तैयारी शुरू की.

दादा की यूनिफार्म देखर मिलती थी खुशी
प्रियंका का बचपन से ही आईपीएस अधिकारी बनने का सपना था.उनके दादा एस एस शुक्ला भी आईपीएस अधिकारी थे और वे मध्य प्रदेश में एडीजी (ADG) के पद से रिटायर हुए थे.प्रियंका कहती है कि दादा जी को यूनिफार्म में देखकर अजीब सी खुशी मिलती थी. जब वो घर आते थे तो लोग उन्हें बहुत सम्मान देते थे. प्रियंका बचपन की यादों में खोते हुए बताती है कि जब गांव में पुलिस की लाल बत्ती वाली गाड़ी गश्त करती थी तो वो अपनी छत से उसे आखिरी छोर तक निहारती थी. वो गाड़ी भी बहुत आकर्षित करती थी जो उसके आईपीएस बनने के सपने की वजह बनी.

कड़ी मेहनत के बाद मिली सफलता
प्रियंका बताती हैं कि पहले दो अटेम्ट ग्वालियर में रहकर दिए लेकिन सफलता नहीं मिली. फिर उनके पिताजी ने उन्हें दिल्ली कोचिंग के लिए भेजा. प्रियंका ने दिल्ली से जब तीसरा अटेम्ट दिया तो फिर निराशा हाथ लगी और हिम्मत जवाब देने लगी.लेकिन खुद पर इतना भरोसा था कि चौथे अटेम्प्ट में जग जीत लिया.  

छोटी बहन भी है आईपीएस
गौरतलब है कि प्रियंका की छोटी बहन मिनी शुक्ला (Mini Shukla) भी 90 वीं रैंक के साथ आईपीएस बनीं. जिस पर प्रियंका ने कहा कि उनकी खुशी डबल हो गई है, क्योंकि उनकी छोटी बहन भी अब आईपीएस है. इनके पिता पेशे व्यवसायी है जबकि मां गृहणी है. बड़े भाई ग्वालियर हाईकोर्ट में प्रैक्टिस करते है.

​​IAS Success Story: 7 गोलियां नहीं बन सकी सपने में बाधा, किसी फिल्म से कम नहीं रिंकू का PCS से IAS बनने का सफर

​​IBPS Admit Card 2022: आईबीपीएस ने जारी किए आरआरबी पीओ परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड, यहां से करें डाउनलोड

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.