Karnataka Police Takes 21 People Into Custody In Praveen Nettaru Murder Case Suspected To Be Linked To PFI Ann


Karnataka: कर्नाटक के दक्षिण कन्नडा जिले के बेल्लारे में बीजेपी नेता प्रवीण नेट्टारू (Praveen Nettaru) की बेरहमी से की गई हत्या के मामले में पुलिस ने अब तक 21 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है. ये सभी लोग पीएफआई (PFI) से जुड़े बताएं जा रहे हैं. मंगलवार को करीब रात 9.30 बजे प्रवीण जब अपनी पोल्ट्री शॉप को शटर लगाकर घर के लिए निकलने वाले थे तब यकायक उन पर पीछे से तीन बाइक सवार लोगों ने तलवार और एक्स के साथ हमला किया. 

पहले हमले के साथ ही प्रवीण दूसरी ओर भागे, कुछ दूर भागे ही थे कि दोबारा उन पर हमला हुआ. जिसके बाद उन पर इतने वार किए कि अस्पताल ले जाते हुए ही उनकी मौत हो गई. आपको बता दें कि हाल ही में प्रवीण ने उदयपुर में कन्हैयालाल के सिर कलम करने की घटना पर गंभीर सवाल उठाए थे. प्रवीण ने कन्हैयालाल को लेकर 29 जून को पोस्ट किया था. इसमें प्रवीण ने लिखा था कि आज एक गरीब दर्जी को सरेआम काटकर वीडियो बना दिया गया है. ये कट्टर कह रहे हैं कि हमारा अगला टारगेट प्रधानमंत्री मोदी (PM Narendra Modi) है.

पका वॉइस बॉक्स क्यों जल गया?- प्रवीण नेट्टारू

उन्होंने सेक्युलर लोगों की चुप्पी पर सवाल उठाते हुए पूछा था कि आप सब कहां हैं? अब आपका वॉइस बॉक्स क्यों जल गया? उस राज्य में कांग्रेस की सरकार है अब मुंह क्यों नहीं खोल रहे हैं? क्या तुम्हें गरीब की जिंदगी पर रहम नहीं आई? प्रवीण की हत्या को लेकर राज्य भर में बीजेपी कार्यकर्ता और राइट विंग लोगों में काफी आक्रोश है. आक्रोश इतना कि जब राज्य के बीजेपी अध्यक्ष नलिन कटील परिवार से मिलने पहुंचे तो उनकी गाड़ी पलटाने की कोशिश की गई. उनके परिवार से मिलने नहीं दिया गया. पुलिस को बुधवार को भीड़ को तितर बितर करने के लिए लाठी चार्ज करना पड़ा.

उन्हें कभी धमकी या कोई भनक नहीं लगी- प्रवीण नेट्टारू की पत्नी 

प्रवीण की बेरहमी से की गई हत्या से अब नेट्टारु गांव में मातम पसरा है. उनके घर में आंसुओं का सिलसिला रुक नहीं रहा. मां, तस्वीर देख कर पूछ रही है कि कहा है मेरा बेटा, जिसने अपना जीवन बीजेपी के कार्य में लगा दिया? पत्नी जिसकी शादी प्रवीण से साढ़े तीन साल पहले ही हुई उनका भी रो रो कर बुरा हाल है. रोज प्रवीण के साथ दुकान बंद कर घर लौटती थी उस दिन बहन का कोई फंक्शन था इसलिए पत्नी को पहले भेज दिया और वे दुकान बंद कर कुछ देर में पहुंचने वाले थे. वह यह नहीं जानती थी कि तब प्रवीण का शव पहुंचेगा.

पत्नी का यह भी कहना है कि सोशल मीडिया पर पोस्ट उसका पर्सनल व्यू होता है. कोई उसके लिए हमला क्यों करेगा? उन्हें कभी धमकी या कोई भनक नहीं लगी कि ऐसा होगा, नहीं तो पहले ही केस दायर कर लेते. बहन ने कहा, तीन बहनों के बाद प्रवीण इकलौते भाई थे. सबसे छोटे और समाज के लिए सब कुछ करने वाला भाई था. जिसने परिवार से ज्यादा पार्टी और समाज सेवा का सोचा.

मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने जनोत्सव कार्यक्रम किया रद्द

इस बीच पुलिस केरल पुलिस के साथ मिलकर इन्वेस्टिगेशन कर रही है. पुलिस इस एंगल को भी खंगाल रही है कि कुछ दिन पहले यहां मसूद नाम के युवक की हत्या की गई थी ऐसे में प्रवीण की हत्या उससे जुड़ी तो नही? हालांकि उस हत्या में प्रवीण का कोई रोल नहीं था. लोगों के आक्रोश को देखकर आधी रात को मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने प्रेस कांफ्रेंस बुलाई और अपनी सरकार के एक साल खत्म होने के कार्यक्रम जनोत्सवा को कैंसल किया. जिसमें पार्टी प्रमुख जेपी नड्डा भी पहुंचने वाले थे. इससे अब सरकार पर सवाल उठ रहा है कि आखिर क्यों बोम्मई सरकार इस तरह की घटनाओं को रोकने में नाकाम दिखाई दे रही है. इससे पहले शिवामोगा में भी हर्षा नाम के युवक की हत्या की गई थी.

यह भी पढ़ें.

Maharashtra Cabinet Decision: शिंदे कैबिनेट का फैसला- गणेश उत्सव और कोरोना नियमों के उल्लंघन के केस होंगे वापस

Maharashtra News: प्लास्टिक कोटेड और लेमिनेटेड उत्पादों पर महाराष्ट्र में लगा बैन, इस्तेमाल किया होगी यह कार्रवाई



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.