Indian Navy Is Sending Ships All Over The World Under The Azadi Ka Amrit Mahotsav


Independence Day: भारतीय नौसेना (Indian Navy) देश की आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ (Azadi Ka Amrit Mahotsav) के तहत लगभग सभी महाद्वीपों के बंदरगाहों पर अपने पोत भेज रही है. नौसेना के अधिकारियों ने कहा कि जहाज अंटार्कटिका को छोड़कर सभी महाद्वीपों की यात्रा कर रहे हैं.

एशिया में, आईएनएस चेन्नई और आईएनएस बेतवा मस्कट का दौरा कर रहे हैं, जबकि गश्ती पोत आईएनएस सरयू सिंगापुर के लिए रवाना हो रहा है.  अफ्रीका के लिए नौसेना तलवार श्रेणी के युद्धपोत आईएनएस त्रिकंद को केन्या के मोम्बासा भेज रही है जबकि गश्ती पोत आईएनएस सुमेधा ऑस्ट्रेलिया में पर्थ की यात्रा पर है.

अलग अलग देशों में भेजे गए पोत

उत्तरी अमेरिका में, आईएनएस (INS) सतपुड़ा अमेरिका (America) में सैन डिएगो रवाना हो रहा है, जबकि फ्रिगेट आईएनएस तरकश दक्षिण अमेरिका (South America) के ब्राजील (Brazil) में रियो डी जनेरियो बंदरगाह की यात्रा पर है.

यूरोपीय महाद्वीप के लिए नौसेना (Navy) एक समुद्री प्रशिक्षण जहाज आईएनएस तरंगिनी को लंदन (London) भेज रही है. लंदन में, आईएनएस तरंगिनी का दल दो विश्व युद्धों के दौरान सर्वोच्च बलिदान देने वाले भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करेगा. वे कॉमनवेल्थ मेमोरियल गेट पर श्रद्धांजलि देंगे. इसी तरह, आईएनएस सरयू का दल क्रांजी युद्ध स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित करेगा.

मोम्बासा में, भारतीय नौसेना के जवान तेइता तवेता क्षेत्र के युद्धक्षेत्र में एक स्मारक स्तंभ संबंधी कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे, जहां भारतीय सैनिकों ने प्रथम विश्व युद्ध के पूर्वी अफ्रीका अभियान के तहत सेवा करते हुए अपने प्राणों की आहुति दी थी.

ये भी पढ़ें: Project 75: रक्षा मंत्रालय ने नौसेना के 7 बिलियन डॉलर के पनडुब्बी वाले टेंडर में बदलाव को दी मंजूरी, जानिए इसके बारे में सबकुछ

ये भी पढ़ें: Varuna Drone: भारतीय नौसेना के लिए बनाया गया भारत का पहला पैसेंजर ड्रोन, बिना पायलट के भरेगा उड़ान



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.