India Does Not Have Problems Like Pakistan And Sri Lanka Says Former RBI Governor Raghuram Rajan


Former RBI Governor Raghuram Rajan Praises RBI: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के पूर्व गवर्नर (Governor) रघुराम राजन (Raghuram Rajan) ने आरबीआई की तारीफ की है. उन्होंने कहा, ‘भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने विदेशी मुद्रा भंडार (foreign exchange reserves) बढ़ाने में अच्छा काम किया है और देश को श्रीलंका (Sri lanka) और पाकिस्तान (Pakistan) जैसी आर्थिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा. हमारे पास पर्याप्त विदेशी मुद्रा भंडार है रिजर्व बैंक ने रिजर्व बढ़ाने में अच्छा काम किया है. हमारे यहां श्रीलंका और पाकिस्तान जैसी समस्या होने का खतरा नही हैं. आरबीाई गवर्नर ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में बताया कि हमारे देश पर विदेशी कर्ज भी कम है. 

वहीं देश की मुद्रास्फीति पर आरबीआई के पूर्व गवर्नर ने कहा कि आरबीआई द्वारा नीतिगत दरों में बढ़ोतरी से मुद्रास्फीति के दबाव को कम करने में मदद मिलेगी. इसके साथ ही उन्होंने ये भी  कहा कि इस समय पूरी दुनिया में महंगाई है. आरबीआई अपनी ब्याज दरें लगातार बढ़ा रहा है जिससे महंगाई कम करने में मदद मिलेगी. उन्होंने बताया कि सबसे ज्यादा महंगाई खाद्य और ईंधन में है. हम सभी लोग ये साफ तौर पर देख रहे हैं कि दुनिया में खाद्य मुद्रास्फीति कम हो रही है और आने वाले समय में ये भारत में भी घटेगी.

विदेशी मुद्रा भंडार में आई गिरावट
आरबीआई के नए आंकड़ों के मुताबिक, 22 जुलाई को समाप्त हुए सप्ताह के लिए भारत का विदेशी मुद्रा (फोरेक्स) भंडार 571.56 बिलियन डॉलर था. जबकि 22 जुलाई को समाप्त सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार में 1.152 अरब डॉलर की गिरावट दर्ज की गई थी. आरबीआई के साप्ताहिक सांख्यिकीय पूरक के मुताबिक, विदेशी मुद्रा संपत्तियों में गिरावट के कारण 22 जुलाई को समाप्त सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट आई. जबकि विदेशी मुद्रा भंडार के अन्य सभी घटकों ने सप्ताह के दौरान लाभ दर्ज किया. 

RBI के आंकड़ों बताई स्थिति
भारत (India) की विदेशी मुद्रा संपत्ति (Forex Asset) जो विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves) का सबसे बड़ा घटक हैं, 22 जुलाई को समाप्त सप्ताह के दौरान 1.426 अरब डॉलर गिरकर 510.136 अरब डॉलर हो गई. 15 जुलाई को समाप्त सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा असेट्स (Forex Asset) में 6.527 अरब डॉलर और 6.656 अरब डॉलर की गिरावट आई थी. आरबीआई (RBI) के आंकड़ों से इस बात की जानकारी मिलती है समीक्षा वाले  सप्ताह में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के साथ भारत के विशेष आहरण अधिकार का मूल्य 106 मिलियन डॉलर बढ़कर 17.963 बिलियन डॉलर हो गया. 

यह भी पढ़ेंः
Maharashtra: ‘ये विद्रोह नहीं बल्कि शिवसेना के स्वाभिमान की लड़ाई है’,  केसरकर ने उद्धव को दी बीजेपी से गठबंधन की सलाह

Maharashtra Crisis: आदित्य ठाकरे की बागी विधायकों को चुनौती, इस्तीफा देकर चुनाव लड़कर दिखाएं



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.