Delhi Pollution Challan Pollution Certificate 10 Thousand Fine Will Be Imposed On 16 Lakh Vehicles Delhi


Delhi Pollution Certificate: राजधानी दिल्ली में अगर कोई वैध पॉल्यूशन के बिना गाड़ी सड़कों पर चलाते हुए पकड़ा जाता है, तो वाहन मालिकों को मोटर वाहन अधिनियम के अनुसार छह महीने तक की जेल या 10,000 रुपये तक का जुर्माना या फिर दोनों का सामना करना पड़ सकता है. दिल्ली सरकार ने पिछले महीने से ही वैध पॉल्यूशन नियंत्रण प्रमाण पत्र के बिना वाहन मालिकों को नोटिस भेजना शुरू कर दिया था, जिसमें कहा गया है कि आप या तो पॉल्यूशन प्रमाण पत्र लें या फिर जुर्माने का सामना करें.  

16 लाख वाहन बिना पीयूसी के
वहीं एक अनुमान के मुताबिक 18 जुलाई 2022 तक दिल्ली में करीब 13 लाख दोपहिया और तीन लाख कारें बिना वैध पीयूसी के चल रही थीं. परिवहन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य सरकार ने करीब 14 लाख वाहन मालिकों के मोबाइल नंबरों पर रिमाइंडर भेजकर उनसे पीयूसी प्रमाणपत्र बनवाने को कहा है. अधिकारी ने बताया कि दिल्ली में प्रदूषण का मौसम दो-तीन महीनों के भीतर आने वाला है. हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हम कुछ हद तक वाहनों से होने वाले प्रदूषण को कम करें. वाहन मालिकों को एक वैध पीयूसी प्राप्त करने की चेतावनी देना उस दिशा में एक कदम है.

Ticket Cancellation: ट्रेन, हवाई जहाज टिकट और होटल बुकिंग कैंसिल करने पर भरना पड़ेगा जुर्माना

इन्हें जुर्माने से छूट
अधिकारी ने आगे कहा, जो वाहन सड़कों पर नहीं चल रहे हैं उन्हें जुर्माने से छूट है. अधिकारी ने एक रिटायर्ड सेना के कर्नल का उदाहरण दिया, जिसने परिवहन विभाग को लिखा था कि उनका बेटा विदेश में है और उसका वाहन उनके गैरेज में खड़ा है. उन्होंने कहा, निश्चित रूप से, जो वाहन सड़कों पर नहीं चल रहे हैं उन्हें पीयूसी लेने की जरुरत नहीं है, लेकिन बिना वैध पीयूसी के सड़कों पर चलने वाले वाहनों पर केस दर्ज किया जाएगा. केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 के अनुसार, चार पहिया बीएस-IV वाहनों मालिकों को अपने पहले रजिस्ट्रेशन की तारीख से एक साल की अवधि की खत्म होने के बाद एक वैध पीयूसी प्रमाण पत्र लेना जरुरी है. 

यहां बनवा सकते हैं पीयूसी 
बता दें कि दिल्ली के पेट्रोल पंपों और वर्कशॉप पर 900 से ज्यादा प्रदूषण जांच केंद्र हैं. यहां पर पेट्रोल और सीएनजी से चलने वाले दोपहिया और तिपहिया वाहनों की प्रदूषण जांच की फीस 60 रुपये है. जबकि चार पहिया वाहनों के लिए 80 और डीजल वाहनों के लिए 100 रुपये फीस है.

Vice President Election 2022: जानिए कितना महत्वपूर्ण है उपराष्ट्रपति का पद? क्या हैं उनके अधिकार

 



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.